.

"झूठा प्यार" हिंदी लव स्टोरी - हिंदी में स्टोरी

"झूठा प्यार" 


"झूठा प्यार" हिंदी लव स्टोरी - हिंदी में स्टोरी
"झूठा प्यार" हिंदी लव स्टोरी - हिंदी में स्टोरी

अचानक से हाथ काँपने लग गए, लेकिन उन कपकपाते हाथों से भी आखिर कमल ने मैसेज टाइप कर दिया। तभी एक रिप्लाई आया
"जी मैं आप से प्यार नही करती हूँ, माफ कीजियें।"
कमल ने कुछ देर बाद सोच कर  मैसेज किया उस में लिखा
 " अरे मेघा! ऐसा मत कहो, तुमारे बिना मैं मर जाऊंगा ?"
कमल का मैसेज पढ़ते हुए  का वापस से मैसेज आया और उसने लिखा
 "अरे! तुम्हे जो करना है करो। लेकिन मुझे पेरशान मत करो।"
कमल ने रोते हुए कहा  :-"अरे पर तुम भी तो मुझ से प्यार करती थी।"
इस बात पर मेघा का कोई जवाब नहीं आया।

तभी अचानक से फोन में घंटी बजी और मेघा ने 2 मिनट के लिए का कॉल होल्ड करते हुए उसकी नजर उस मैसेज पर पड़ी तो वह गुस्सा हो गई। उसने  कमल को  फिर से एक मैसेज किया है
जिसमें लिखा था कि " किसी ने तुम से प्यार किया और तुम अब क्यों रो रहे हो?????"
इतना कहते हुए मेघा ने फोन बंद कर दिया।

2 साल बाद...
मेघा ने विनीता से कहा "अरे मैं एक लड़का ढूढ़ रही हूँ, जो अमीर हो।"
इतना सुनने के बाद विनीता ने कहा  "चल छोड़! तू रहने दे ,मैं एक अमीर आईपीएस ऑफिसर को जानती हूं वह भी शादी का सोच रहा हैं, इसे कॉल लगाती हूं।"
विनीता ने  कॉल लगाते हुए और अपनी हंसी को छुपाते हुए कहा
"हेलो! सर मैं सजय की बहन विनीता बोल रही हूँ और मैं आज आप को मैं अपनी सहेली से बात करानी चाहती हूँ।"
यह  सुन जवाब आया
" हाँ, विनीता।"
यह सब सुनते हुए विनीता  ने मेघा को फोन दिया और  2 मिनट के लिए अपने फोन को थोड़ा सा दूर रख कर धीमी आवाज में हंसते हुए और अपनी हंसी को छुपाते हुए वापस फोन को कान पर लगाते हुए मेघा ने कहा
"नमस्कार जी मै मेघा हूँ, मैं विनीता की सहेली बोल रही हूँ।"
और इतना कह ही रही थी कि फोन कट हो गया
 कि
तभी एक नए नंबर से मैसेज आया "मुझे कुछ पैसों की आवश्यकता है यह तुमने मुझ से कहा था और मैंने बिना कुछ सोचे तुम्हे पैसे दे दिये। और इन पैसों के लिए ही तुमने मुझसे झूठा प्यार किया था।
परंतु कुछ दिनों बाद जब मुझे  किसी बड़े कार्य के लिए पैसों की सख्त आवश्यकता थी तो तुमने कहा अभी मैं कुछ दिनों के लिए किसी कार्य में व्यस्त हूं और हो सकता है कि मैं  कुछ और समय पश्चात आपको आपके पैसे लौटा परंतु अभी आप किसी और से प्रबंध कराले।मैं पूरी तरह से फंस चुका था, मुझे पैसों की सख्त से सख्त आवश्यकता थी, सुधीर ने मजबूरन सभी दोस्तों से पैसों की मदद के सभी को मैसेज भी लिखा, लेकिन किसी ने उसकी मदद नहीं की, और तुमने भी अपना असली रंग दिखा दिया था। अब मुझे तुमसे कोई बात नहीं करनी है।"
यह मैसेज पढ़ कर मेघा ने मैसेज किया
 "क्या यह तुम हो कमल?"
मेघा को परेशान देखकर विनीता ने पूछा
 "क्या हुआ?"
 तब मेघा ने विनीता को सब कुछ बता दिया। तभी विनीता ने मेघा को कुछ बताया और कहा
"जल्दी से कमल को फोन लगाओ।"
तभी मेघा ने जल्दी से कमल को फोन लगाया और मेघा ने कहा
"मुझे माफ कर दो, मुझसे बहुत बड़ी गलती हो चुकी थी मैंने तुमसे झूठ कहा था कि मैं तुमसे प्यार करती हूं और मैंने तुमसे  पैसे भी ले लिए थे लेकिन मैं यह जानकर बहुत खुश हूं कि तुम आईपीएस ऑफिसर बन गए और मैं अब तुमसे शादी करने को तैयार हूं।"
यह सुन कमल ने कहा "अब मैं तुमसे कोई बात नहीं करना चाहता हूं क्योंकि तुम स्वार्थी हो। तुम्हारे झूठे प्रेम में आकर मैं खुद को ही तबाह करना चाहता था। मैं आत्महत्या करना चाहता था। लेकिन मुझे मेरी मां ने मुझे संभाला और वह मेरी प्रेरणा बनी। उन्ही ने मुझे आईपीएस ऑफिसर बनने के लिए प्रेरित किया। रात दिन मेरी मां ने मुझ पर मेहनत करी और आज मैं जो भी हूं अपनी मां की बदौलत हूं।"
यह कहते हुए कमल ने फोन रख दिया और मेघा अपने किए पर शर्मिंदा थी।

कहानी का उद्देश्य:- किसी के भी भावनाओं के साथ नहीं खेलना चाहिए और अपने स्वार्थ के लिए किसी का भी फायदा नहीं उठाना चाहिए।

Post a Comment

0 Comments