.

"चरित्रहीन" कविता हिंदी में

"चरित्रहीन"


"चरित्रहीन" कविता हिंदी में
"चरित्रहीन" कविता हिंदी में 

क्या तेरा यूं खफा खफा रहना और मुझे कलंकित चरित्रहीन कहना
क्या सही है क्या.....
मुझ पर भी यू चिल्लाना
तेरा यूं मुझ पर हाथ उठाना
क्या सही है क्या.....
तुझे एक लड़के को देखना है और मुझे कह दिया कि तुझे इस नन्हीं सी जान को कूड़े में फेकना है
क्या सही है क्या

क्यों तुझे मेरा काम करना पसंद नहीं आता है
क्यों मेरे काम करने के बात से ही तुझे गुस्सा आ जाता है
क्या सही है क्या

यह किस तरह का नियम है कि मुझे 24 घंटे एक घुंघट में रहना है तेरी लाठी और तेरी चप्पल से मार खाने के बाद भी चुप रहना है
तेरा इस तरह से मुझ पर हर रोज जुल्म के बाद भी तुझे पति परमेश्वर कहना है
क्या सही है क्या

Post a Comment

0 Comments