.

दोस्ती पर कविता हिंदी में | poem on friendship in hindi

"दोस्त"

दोस्ती पर कविता हिंदी में | poem on friendship in hindi
दोस्ती पर कविता हिंदी में | poem on friendship in hindi

दोस्त वह है जो  की पहचान याद दिलाएं
जो गलत करने पर थप्पड़ लगाए
और ज्यादा इमोशनल हो जाने पर गले से लगाकर समझाए
आज वह कहीं है
पर मेरे पास नहीं है
जा उसके होने पर चहल-पहल होती थी
 और उसके होने पर मेरी जान बहुत खुश होती थी
आज सिर्फ खामोशी है
आजकल होश कहां सिर्फ बेहोशी है
याद तो उसे हर पल करता हूं
कैसे कहूं कि उस पागल से मैं आज भी प्यार करता हूं
पागल दोस्त ना होकर भी दोस्ती सिखा गया
 सच में बड़ा ही अच्छा था वह तो अपनी इंसानियत दिखा गया

Post a Comment

0 Comments