.

हॉन्टेड स्टोर रूम कहानी पार्ट 4 | story on haunted store room part 4

"हॉन्टेड स्टोर रूम कहानी पार्ट 4"
हॉन्टेड स्टोर रूम कहानी पार्ट 4 | story on haunted store room part 4

"आप से निवेदन हैं कि इस भाग को पढ़ने से पहले आप इस  के पार्ट 1, पार्ट 2, पार्ट 3 पढ़ लीजिए। तभी आपको यह भाग समझ आएगा"

सवेरे जब श्रद्धा को होश आया तो उसने देखा कि वह किसी और के घर पर हैं। उसने उठने की कोशिश की। तभी एक व्यक्ति भागते हुए आया और उसने कहा "अच्छा है कि आपको होश आ गया।"
श्रद्धा ने उस व्यक्ति को देखकर कहा "आप कौन हैं?" उस व्यक्ति ने कहा 'मेरा नाम पीटर है"। मैं शरद का दोस्त हूं।"
यह सुन श्रद्धा ने कहा "शरद कहां है और मैं यहां कैसे आई और यह चोट मुझे किस वजह से लगी?"
यह सब सुनने के बाद पीटर ने कहा "कल रात शरद और आप गाड़ी में थे। शरद की बॉडी में एल्कोहल के ड्रेसेस मिले हैं यानी कि शरद ने कल रात शराब पी थी।
 उसी वजह से आपकी गाड़ी का एक्सीडेंट हो गया। लास्ट टाइम शरद ने मुझे  कॉल किया था। मैं ही आपको यहां लाया हूं।"
यह सुन श्रद्धा चौक गई उसने कहा "क्या!! शरद कहां है? क्या वह सही सलामत है?"
यह सुनने के बाद पीटर ने कहा "जी नहीं, इतना भयंकर एक्सीडेंट हुआ कि इसी वजह से गाड़ी में आग लग गई और इसी वजह से गाड़ी में ब्लास्ट हुआ कि शरद की  ऑन द स्पॉट मौत हो गई और उसकी बॉडी गाड़ी के साथ जल गई।"
यह सुनकर श्रद्धा ने रोते हुए हैरान होते हुए कहा "क्या?"
तभी एक शख्स घर के अंदर घुसा और उसके साथ एक लड़की भी थी और उस शख्स का एक हाथ उसकी कोट की जेब मे था। वह श्रद्धा को घूर ही रहा था। वह शख्स श्रद्धा को बड़ा ही अटपटा लगा। बार-बार घूरने की वजह से तंग आकर श्रद्धा ने गुस्से में आकर पूछा "कौन हो तुम?"
यह सुनने के बाद उस शख्स ने कहा "मैम, मेरा नाम जेम्स है। मैं एक हॉरर राइटर और पैरानॉर्मल एक्सपर्ट हूं। मुझे आपके पति ने आपके घर में हो रहे कुछ पैरानॉर्मल एक्टिविटीज को सॉल्व करने के लिए मुझे कॉल किया था।
यह सुनने के बाद श्रद्धा ने निराश होकर कहा "माफ कीजिएगा, अब मेरे पति नहीं रहे और मैं उस घर को बेचकर बहुत दूर चली जाऊंगी। यह सुनने के बाद जेम्स ने कहा "जी नहीं, मैं इस बात को सही से समझता हूं कि भूत प्रेत की बातें  अक्सर होती रहती है और कुछ लोग इस बातों को मानते हैं। कुछ लोग उनको नहीं मानते हैं। कुछ लोगों का यह सिर्फ वहम होता है  और किसी की आपबीती होती है। किसी की भी बातें सुनकर मैं यूं ही नहीं आता हूँ। पहले मैं अपनी टेक्निक से यह जानने की कोशिश करता हूं कि क्या वाकई में यह कोई पैरानॉर्मल केस है कि नहीं। कल रात  उस साय से कांटेक्ट करने के लिए मैंने बहुत कुछ कोशिश की। मैंने उसे अभिमंत्रित कर उसी के स्थान पर बांध दिया था और आपके पति को यह भी कहा था कि वह उस स्थान को अच्छी तरह से बंद कर दे लेकिन यह आपके पति की ही भूल थी कि उन्होंने उस जगह को बंद नहीं किया। इसकी वजह से वह साया आपके पति के पीछे पड़ गया।"
यह सुनने के बाद श्रद्धा ने कहा "देखिए, आप की तरह के लोग केवल दिखावटी बातें करते हैं। माफ कीजिए, मैं अपने पति की तरफ से जो केस आप को दिया हैं। वह वापस लेती हूँ आप का जितना भी पेमेंट हो मैं दे दूँगी।"
यह सुन जेम्स को गुस्सा आ गया और उसने गुस्से में अपनी कोट को जेब से अपना हाथ बाहर निकाला और दिखाते हुए कहा "अच्छा आप क्या क्या मुझे वापस दे सकते हैं? क्या आप इस हाथ की ये जली हुई बेजान तीन अंगुली में जान वापस दे सकती हैं।
जी हां यह चोट उस साय ने मुझे दी हैं। जब मैं उसे आप के धर से निकाल रहा था। लेकिन सिर्फ आप के पति की भूल की वजह से वह आजाद हो गईं और वह अब और भी नाराज हो गई हैं। वह अपनी मौत का गुनहगार सब को मान रही हैं। जो सब जान कर भी उसकी मदद नही कर रहा हैं और मैं यहाँ पैसो के लिये नही आया हूँ। मैं तो बस उस साय से आपको बचाने आया हूँ कियुकि ऐसी ही एक साय ने मुझ से मेरी पत्नी को मुझ से छीन लिया था।"
इतना कहते हुए जेम्स की आँखे भर आई। यह सुन श्रद्धा ने कहा "जी माफ करना।"
यह सुनने के बाद जेम्स ने कहा "जी कोई बात नहीं और मैं आपको मेरे अस्सिटेंट मिलना चाहता हूं।"
यह सुनने के बाद श्रद्धा ने कहा "जी किससे?"
यह सुनने के बाद जेम्स ने कहा "रुचि यहां आना तो?"
तभी रुचि आई उसने श्रद्धा को देख कर कहा "जी मैं जेम्स सर की असिस्टेंट हैं और उस घर की इन्वेस्टिगेशन करने के लिए हमें वापस उसी घर में चलना होगा।"
यह सुनने के बाद जेम्स ने कहा "जी, रूचि सही कह रही हैं ,जहां से शुरुआत हुई, वहीं से इसका अंत होगा। पीटर तुम्हें भी चलना पड़ेगा क्योंकि अब तुम भी इस केस में इन्वॉल्व हो गए हो हम आज रात ही वही जायेगे।"
यह सुन  सभी ने हाँ में जवाब दिया और सभी अपने अपने कमरों में चले गये।
और रुचि ने कहा"और तुम्हे यह हाथ पर कैसे लगी?और तुम्हारी पत्नी नहीं रहीं?"
यह सुन जेम्स ने कहा "अरे यह तो आटे की बनी गोली से  और मेकअप का कमाल हैं और वह तो मैने इस लिये कहा ताकि वह केस वापस ना ले ले।"
और जेम्स ने धीरे से रुचि से कहा "आप कौन हैं? यह बात किसी को खबर नहीं होनी चाहिए। आप अपना काम कीजिएगा, मैं अपना काम करूंगा।"
यह सुनने के बाद रूचि ने कहा  "हाँ तुम्हारा शक सही निकला, श्रद्धा के पर्स से प्रोपेटी के पेपर मिले हैं ,उसका फ़ोन मिला है। दोनों रख लिया है और तुम यहां केस सॉल्व करने आए हो या फिर लड़की को धुरने  आए हो? यह मत भूलना कि मैं तुम्हारी वाइफ भी हूं। मैं यह सब अनदेखा नहीं कर सकती हूं।"
यह सुनने के बाद जेम्स ने हंसते हुए कहा "इसमें मेरी क्या गलती है श्रद्धा है ही इतनी खूबसूरत।"
यह सुनने के बाद गुस्से में रूचि ने कहा "क्या?"
यह सुनकर जेम्स ने कहां "अरे मै मजाक कर रहा हूं। मैं तो यह श्रद्धा के पीछे पड़ी हुई तस्वीर देख रहा था जरा प्रॉपर्टी के पेपर निकालना तो।"
यह सुन रुचि ने जेम्स को वह पेपर पकड़ा दिए। पेपर देखने के बाद जेम्स ने कहा "यह देखो तो इस पेपर में जिस  का नाम लिखा है। वही नाम इस तस्वीर में इस  शख्स के हाथों पर भी लिखा हुआ है और यही नाम श्रद्धा के फ़ोन में भी सेव हैं और इस तस्वीर में पीटर भी इस शख्स के साथ खड़ा है। हो ना हो यह शख्स पीटर का दोस्त है और उस शख्स का भी हाथ हैं इन सब में। इसीलिए मैंने इस केस में पीटर को भी जोड़ दिया  और साथ ही उसको भी चलने को कहा हैं ताकि कैसे भी हम उस शख्स तक पहुँच सके तुम अभी पीटर पर नजर रखो।"
यह सुनने के बाद रुचि ने कहां "हाँ और तुम्हारा पहला शिकारी कौन है?"
यह सुनने के बाद जेम्स ने कहा "मेरा पहला शिकारी पीटर हैं और आज रात तुम्हें उसे मारना हैं। जैसा हमने प्लान बनाया था उसके मुताबिक।"
यह सुनने के बाद रुचि ने कहा "ठीक है।"

To be continue...






Post a comment

0 Comments