.

माँ पर कविता स्पेशल हैप्पी मदर डे पर । poem on mother in hindi for happy mother day

"माँ"
 माँ पर कविता स्पेशल हैप्पी मदर डे पर । poem on mother in hindi for happy mother day

जो ममता की मूरत हैं
प्यारी जिसकी सूरत हैं
जो हर गम हर तकलीफ में साथ हैं
जो बच्चो के तबियत बिगड़ने पर जगी वो रात हैं
जो भगवान भी इस ममता को पाने दुनिया मे आता हैं
जिसने बच्चो के खातिर दर्द सहा हैं
इसलिये माँ को भगवान का रूप कहा हैं
वो सारे काम कर भी नहीं थकती हैं
जब तक बच्चा नही सो जाएं तब तक वह जगती हैं
पिता तो हर वक्त ही साथ निभाता हैं
लेकिन दर्द में तकलीफ में माँ का नाम ज़बान पर आता हैं
पिता की काम की एक सीमा हैं पिता के थकान आँखे भी कुछ वक्त के लिये आराम करती हैं
पर माँ 24 घन्टो तक बिना रुके काम करती हैं
आज शुक्रिया कहने से माँ के साथ और संघर्ष का मोल नहीं चुका सकता हूं
बस प्यार से हाथ जोड़ सर झुका नमस्कारं कर सकता हूँ
बच्चे की पहली गुरू होती हैं
जिस से सृष्टि शुरू होती है
जो अपने दर्द को छुपाती है
जो बच्चो को भरपूर खिला कर खुद आधी रोटी खाती है
मां के अलावा इस दुनिया में नहीं कोई दूसरा नाता है तकलीफ में मां के अलावा दुनिया में और कोई दूसरा नहीं आता है
कुछ वक्त मां के साथ बिताओ
तुम हो उसके साथ उसे यह बताओ
उलझी और तेज भागती द्वारा जिंदगी में कुछ वक्त मां के संग बिताओ
तुम आज भी हो उसके सग यह जताओ
 खुश होकर सर पर हाथ रख दे तो  सब परेशानियां, तकलीफें भाग जाएगी
सोई किस्मत भी जाग जाएगी



Post a comment

0 Comments