.

हॉन्टेड होटल एंड मिस्ट्री ऑफ सेवन मर्डर -कंपलीट केसेस । haunted hotel and mystery of seven murder -complete cases

"हॉन्टेड होटल एंड मिस्ट्री ऑफ सेवन मर्डर-कम्पलीट केसेस"
हॉन्टेड होटल एंड मिस्ट्री ऑफ सेवन मर्डर-कंपलीट केसेस । haunted hotel and mystery of seven murder -complete cases

"इस कहानी को तीन भागों में समाप्त किया हैं एवम पूरी कहानी आप एक साथ इस पर पढ सकते हैं।"

"जब हम क्राइम इन्वेस्टीगेशन ऑफिसर केस सॉल्व करने  जा रहे हैं तो मुझे नहीं लगता है कि आप की कोई जरूरत है तो आपने आने की दिक्कत क्यों उठाई और मैं तो नई-नई ज्वाइन हुई हूं। आपकी वजह से मुझे मौका नहीं मिलेगा कुछ भी सीखने को।"
यह सुन लीला ने मुंह फुलाते हुए अपना चेहरा दूसरी और घुमा दिया।
यह सुनकर जेम्स ने हँसते हुए कहां "एक काम करो गाड़ी के खिड़की खोल दो क्योंकि मुझे लगता है तुम्हारा इस कदर गुस्सा करने से अचानक तापमान गर्म हो गया है। मैं तुम्हारा नया नया जज्बा समझता हूं। अगर यह सिर्फ एक साधारण सा केस होता तो मैं इसमें जरा सा भी दखलंदाजी नहीं करता। लेकिन जान जा रहे हैं उसके इतिहास के बारे में तुम नहीं जानते दरअसल वह जगह हांटेड है और  जो कोई भी है उसने मौत का आंकड़ा शुरू कर दिया है जो पता नहीं किस की मौत पर जाकर रुकेगा।"
यह सुनकर लीला ने कहा "पर रुचि दी ,यह तो सिर्फ़ तो एक पैरानॉर्मल एक्सपर्ट है इनका क्या काम है? और आप कुछ कह रहे थे कि उस जगह का कुछ इतिहास है आखिर क्या इतिहास है उस जगह का और इससे हमें क्या लेना देना?"
जेम्स ने कहा "जहां हम जा रहे हैं वहां पर एक प्रेत आत्मा का साया हैं । वह  मानसिक तौर पर बीमार था। उसने 7 लोगों की बड़ी ही बेरहमी के साथ हत्या कर ली थीं।"
यह सुन लीला ने कहा "मैं इन भूत प्रेत में विश्वास नहीं करती हूँ। मैं तो यह समझती हूँ कि यह केवल एक साधारण सा केस हैं।"
यह सुन रुचि ने कहा "जेम्स ने सही कहा। अगर यह एक साधारण सा केस होता तो हमारे सुपीरियर जेम्स को आने के लिए नहीं कहते। उन्होंने इसके लिए पर्सनली जेम्स को सॉल्व करने के लिए कहा है।"
जेम्स रूचि और लीला तीनों होटल पर पहुंच गए।
जैसे ही गाड़ी होटल के पास पहुंची तभी भागते हुए एक आदमी  आया और गाड़ी का दरवाजा खोला।
जेम्स रूचि और लीला गाड़ी से बाहर निकले जेम्स अपना हाथ आगे बढ़ाते हुए कहा "आप हैं शेखर, इस होटल के मालिक।"
यह सुन शेखर ने कहा "जी, हां मैं ही हूं और मैंने  आप लोगों को कॉल कर यहां बुलाया है। देखिये मैंने  हाल ही में बेकार जगह और बिल्डिंग को इतना पैसा ख़र्च कर इस होटल को बनाया है। मुझे नहीं पता था कि यह जगह हॉन्टेड है।"
यह सुनकर लीला ने कहा "अच्छा यह बताइए कि आपकी इस होटल में अभी कितने गेस्ट आए हुए हैं?"
यह सुनकर शेखर ने कहा "जी  14 गेस्ट आए हुए हैं। और उसमें से अभी एक की मौत हो चुकी हैं।"
यह सुनने के बाद रुचि ने कहा "आप एक काम था सभी गेस्ट को एक जगह पर बुला दीजिये और साथ ही आप अपने सभी स्टाफ को भी बुला दीजिएगा।"
तभी लीला ने कहा जी आपने बताया था कि डेड बॉडी के पास आपको एक छोटा सा कागज का टुकड़ा मिला था। क्या आप हमें दे सकते हैं?"
यह सुनकर शेखर ने अपनी जेब से कागज का टुकड़ा लीला को थमा दिया।
लीला ने उस कागज को खोला और पढा "मैंने मौत का आंकड़ा शुरू कर दिया है अभी छह और खून होंगे-सेवन मर्डरर और कागज के नीचे यह अजीब सी आकृति बनी हैं।"
यह सुन जेम्स ने कहा "क्या वह कागज मैं देख सकता हूं?"
यह सुन लीला ने जेम्स को कागज थमा दिया। कागज देखने के बाद जेम्स ने सोचा "क्या? इसका मतलब मेरा शक सही निकला।"
जेम्स ने फिर कागज को पलटा और कुछ ड्रा करने लग गया।उसके बाद 
 फिर जेम्स ने रुचि को देखकर कहां "रुचि जितना जल्दी हो सके। इस जगह के सारे रिकॉर्ड और यहां की सारी बैकग्राउंड हिस्ट्री का पता लगाएं और और हो सकता है  रिकॉर्ड में अगर किसी तरह की कोई भी जानकारी हो तो वह फौरन कलेक्ट करने की कोशिश करो।"
 जेम्स ने शेखर से कहा "जी आपकी होटल में क्या-क्या है?"
यह सुनकर शेखर ने कहा "जी, गोल्फ क्लब, बार, स्विमिंग पूल, डांस स्टेज हैं।"
 यह सुन लीला ने धीरे से रुचि  से कहा "देखो दीदी यह कैसे सवाल पूछ रहे हैं? जैसे कि इनको केस सॉल्व के लिये नही बल्कि यहाँ होटल में रूम लेकर हॉलिडे एन्जॉय करना हो।"
यह सब जेम्स ने देख लिया कि लीला रुचि से कुछ कह रही हैं।तभी जेम्स ने लीला को देख कहा "चलिए शेखर जी बताइए कहां पर हुआ मर्डर और कहां है डेड बॉडी वरना लोगों को लगेगा कि हम तो यहां केवल होटल में रूम लेकर हॉलिडे एंजॉय करने के लिए आए हैं।"
यह सुनकर लीला जेम्स के पास आई और उसने हैरान होते हुए कहा "आपने कैसे पता चला कि मैंने अभी क्या बोला?"
यह सुन जेम्स ने हँसते हुए कहा "मैने तो बस तुमारे बोलते वक्त होटो पर ध्यान दिया था और अंदाजा लगाया था पर तुमने यही बोला था वह तो तुमने ही कबूल कर दिया।"
यह सुन लीला ने अपना मुह फिर से फुला दिया।
लीला ने सोचा "हम आए तो हैं इस केस के लिए।  लेकिन यह तो न जाने क्या कर रहे हैं रुचि दी को भी इस जगह की बैकग्राउंड हिस्ट्री ढूढ़ने को कहा हैं? ऐसे ही रहा तो मुझे नहीं लगता है कि यह केस सॉल्व हो पाएगा। मैं अकेले ही इस केस को सॉल्व करने पर पूरा ध्यान दूंगी।"
जेम्स ने फिर लीला को देखा और हँस कर कहा
"अच्छा विचार हैं तुम अकेले ही केस को सॉल्व कर देना।"
यह सुन लीला ने कहा "इस बार तो ना  मैंने कोई शब्द मुँह से निकले अब आप को कैसे पता चला कि मैं यह सोच रही थी?"
यह सुन जेम्स ने कहा "भले तुम ने कुछ नही कहा लेकिन चेहरा सब बता देता हैं कि कोई क्या सोच रहा हैं। तुमने मुझे देख आँखे फेर ली ,होटल की तरफ देखा और तेज सांसे ले फिर तेजी से अपना सर हिलाया तो इस बार भी मैने अंदाजा ही लगाया बाकी तुम यही सोच रही थी यह तो तुम ने खुद ही बता दिया।"
जेम्स ने शेखर से कहा "देखिये आप मेरे बारे में किसी से कुछ मत कहियेगा। आप मेरा इंट्रोडक्शन गेस्ट की ही तरह कीजिएगा और  सभी मर्डर मिस्ट्री केस सॉल्व करूँगा साथ मे यहाँ हो रहे पैरानॉर्मल एक्टिविटी की इन्वेस्टिगेशन करूँगा।"
यह कहते हुए जेम्स ,शेखर ,लीला ,रुचि सब होटल के अंदर गए।
फिर शेखर ने कहा "जी यह रहे सभी गेस्ट। मिस्टर सुनील  और मिस रमा,मिस्टर विकास  और मिस आशा , मिस रानी और उनकी मंगेतर अनिल,मिस्टर विवेक और मिस विनीता और विवेक के भाई समीर और उनकी गर्लफ्रेंड मीरा, और मिस्टर लोकेश और मिस मिना उनकी दो बेटियां देवी, दीक्षा। यह हैं 14 गेस्ट।
जिनकी डेड बॉडी पड़ी हैं वह सुनील सर की हैं। यह सुन जेम्स ने सभी को देखा और कहा "और शेखर जी आप के होटल के स्टाफ किधर हैं? जो सुनील के आस पास थे।"
शेखर ने कहा "जी यह रहे शेफ़ मनोज,हेयर्सस्टाइलर पंकज,बार बॉय जैरी, स्विमिंग गाइडर केली,वेटर बॉबी हैं।"
तभी रुचि ने जेम्स को कहा "जिस तरह से शरीर पर घाव है मानो जैसे किसी ने खंजर से मारा है खूनी बड़ा ही चालाक है।
 खंजर पर किसी भी तरह के उँगलियों के निशान नहीं है और खूनी ने अपने दाहिने हाथ की मदद से हत्या की हैं।"
जेम्स और रुचि बात कर ही रहे थे कि तभी अचानक से लीला के फोन की घंटी बजी जिसे देख लीला ने रुचि से कहा "दी, मैं अभी आती हूँ।"
तभी जेम्स ने कहा 
 "रमा जी ,आपको किसी पर शक हैं और आप यह बताइये की मरने से पहले  अचानक सुनील की पत्नी रमा ने कहा मिस्टर विवेक पर शक हैं सुनील के साथ उनके मतभेद थे।"
यह सुनने के बाद जेम्स ने कहा कि "किस तरह के मतभेद थे? और क्यो थे?"
 यह सुनने के बाद विवेक ने कहा "दरअसल हमारी कुछ कंपनी की डील लेकर छोटे-मोटे मतभेद हो गए थे। दरअसल अनिल हमारे यहां पर एम्पलाई है। उसकी सुनील सर के साथ कुछ तू तू मैं मैं हो गई थी और सुनील सर हमारी कंपनी में इन्वेस्टर के रूप में पैसे लगाना चाहते थे। लेकिन इस बहस के बाद उन्होंने हमारी कंपनी में पैसा लगाने के लिए मना कर दिया और हमारी कंपनी में सुनील सर के पैसे आने के चक्कर में पहले ही बहुत ही बड़ा प्रोजेक्ट हाथ में ले लिया है और तो उन्हें पैसा ना देना पड़े इसलिये उन्होंने  वो उनके कॉन्ट्रैक्ट वाली फ़ाइल भी गायब करा दी। मुझे इस बात का भी शक था कि मेरे कमरे से उन्होंने ही वह फाइल को लिया होगा। इसीलिए  मैं सुनील सर को समझा रहा था।"
यह सुनकर जेम्स  ने कहा "ठीक है।" 
जेम्स और रुचि अपनी इन्वेस्टिगेशन कर ही रहे थे कि तभी गुस्से में लीला आई और उसने वेटर बाबू को पकड़ा और कहा "तुम ही ने सुनील का मर्डर किया है।"
यह सुनकर बाबू चौक गया तभी लीला ने कहा "दरअसल तुम सुनील से बदला लेना चाहते थे। तुम्हारे पास उसकी हत्या का एक ठोस कारण था क्योंकि सुनील को इस बात पर शक था कि तुमने उसकी कमरे से बिना उसकी इजाजत के उसकी कीमती घड़ी को लिया है और चोरी की है। 
सुनील ने इस लिये सब के सामने तुमारी बेज्जती की थी और तुमारे साथ हाथापाई भी की थी। तुमारे सर्वेंट कोटा के अंदर से तुमारे बैग से काफी सारे रुपये मिले हैं या तो तुमने उसे मारा हैं या उसको तुमने  मारने के पैसे लिए हैं। तुम्हे सीसीटीवी कैमरे में तुम्हे सुनील के कमरे से काफी सारे पैसे लेकर भागते हुए नजर आए हो और तुमने अपने आप को कबल से ढक लिया था। तुमारे कमरे की तलाशी के वक्त तुमारे यह मैले कपड़े मिले हैं जिस पर खून लगा हुआ है।"
 इस बात पर बाबू ने कहा "हाँ  मेमसाहब मेरी सुनील सर के साथ झगड़ा हुआ था। लेकिन फिर जब सुनील सर को जब अपनी धड़ी मिल गई तो उन्होंने मुझे अपने कमरे में बुलाया और माफी मांगी। उन्होंने ही यह रुपये दिये हैं। मैं सुनील सर को कैसे मार सकता हूँ?" मेरे तो दाहिने हाथ पर चोट लगी है यह चोट मुझे किचन में काम करते वक्त लग चुकी थी। जब मैं सब्जी काट रहा था। यह पैसे मुझे सुनील सर ने ही दिये थे।  इतने सारे पैसे थे मेरे पास। मैं यह पैसे सुरक्षित अपने गाँव पहुँचना चाहता था। इसलिये मै जल्दीबाजी में आपको नजर आया। वैसे मैं कर्ज में डूबा हुआ हूँ। मैंने यहां बहुत से  लोंगो से पैसा उधार में लिया है इतने सारे पैसे अगर मैं यू ही बाहर लेकर धूमता तो कोई भी मुझ से यह पैसे मांग लेता इसलिये मैं कमरे के बाहर कबल ढक कर आया था। "
यह सुन लीला ने कहा "तुम झूठ बोल रहे हो, जिसने तुम्हें इतना मारा-पीटा भला हो तुम इतने सारे पैसे क्यों देगा और उसने तुम्हें मारा और तुमारी बेज्जती करी और जब उसने माफी मांगी तो तुमने उसे माफ़ कर दिया। वैसे भी सब्जी जब काटते हैं तो सीधे हाथ से सब्जी पकड़ कर दाहिने हाथ से काटते हैं तो तुम को सीधे हाथ पर चोट आनी चाहिए। अगर तुम्हें वाकई चोट हैं तो हटाओ यह पट्टी।" 
जब बाबू ने पट्टी हटाई तो उसके हाथों पर कोई जख्म का निशान नहीं था। यह देख कर रूचि ने थोड़ी दूरी पर लीला को बुलाया और कहां "तुम्हे इतनी इन्फॉर्मेशन कहा से मिली और तुमने इतनी इंफॉर्मेशन हमें क्यों नहीं बताइए और किस किधर ऐसी काफी सारे लोग मिलते हैं जो शक के दायरे में होते हैं उनसे इन्वेस्टिगेशन और इंटेरोगेशन करते हैं पर उसका भी एक तरीका होता है जिस तरह से तुम कदम उठा रही हो सकता है उससे असली कातिल और चौकन्ना हो जाए।"
यह सुन लीला ने कहा "देखिये मैं अपने तरीके से केस सॉल्व करना चाहती हूँ। मुझे जेम्स का तरीका समझ नही आता हैं और मुझे इतनी जानकारी मिली हैं। मैं अकेले ही सॉल्व कर लूँगी।"
यह सुन रुचि हैरान हो गई।
यह कह कर वह वहाँ से चली गई वापस वही जाने पर उसने लीला ने  कहा  "मेम, मै इतने शक के चलते इन्वेस्टिगेशन और इंटेरोगेशन के लिये हिरासत में लेना चाहती हूँ।" 
यह सुन रुचि ने जेम्स को देखा तो जेम्स ने होले से सर हिला हां में उत्तर दिया।
 यह देख रुचि ने कहा "ठीक है मैं तुमको इस की प्रिमिशन देती हूँ।"
लीला ने बाबू को हिरासत में लेने के लिये ऑफिसर को बुलाया।
जब बाबू को ले जा रहे थे तब  जेम्स ने वहाँ के ऑफिसर से कहा "रुको मुझे कुछ  बाबू से बात करनी हैं।"
फिर बाबू से जेम्स ने बात करी। फिर बाबू को ऑफिसर ले गया।
बाकी सब को वापस उनके कमरो में भेज दिया गया। तब जेम्स ने रुचि को कहा "देखो बाबू, गुंन्हेगार नही हैं। उसे बिना किसी ठोस सबूत ना मिल जाये जब तक उस पर कोई करवाई नही होनी चाहिए और लीला को जो करना है उसे करने दिया जाये और सब प्लानिंग के मुताबिक ही हम काम करते हैं।"
 रूचि ने  कहा "ठीक है।"
जेम्स ने आधी रात को रुचि को जगाया और कहा "हमें अभी की अभी यहां से जाकर यहां के बारे में सब के सब जानकारी लेनी है। एक और इम्पोर्टेन्ट केस आया हैं। चिंता मत करो लीला यहां पर है। हम एक-दो दिन में आ जाएंगे।"
तभी सवेरे विवेक की मौत हो गई।
लीला ने कहा  "दरअसल पोस्टमार्टम के मुताबिक विवेक की मौत ड्रिंक में जहर होने की वजह से हुई थी।" यह सुनकर विवेक के भाई ने कहा "भैया की खून के पीछे विनीता भाभी का हाथ हो सकता है।" यह सुनकर विनीता ने कहा "भला मैं तुम्हारे भैया को क्यों मारूंगी और वह तुम्हारे भैया के साथ साथ मेरे पति भी तो थे।" यह सुनकर विवेक के भाई समीर ने कहा "क्योंकि भैया ने आपको कंपनी के शेयर नहीं दिए।" कभी अचानक लीला  के फोन पर घन्टी बजी। जिसे सुन लीला वहां से चली गई। थोड़ी देर बाद लीला गुस्से में आई और उसने हेयर स्टाइलर पंकज को देख कहा "तुमने ही विवेक का खून किया है तुम्हारे इस शेविंग किट में यह जहरीली पिन पाई गई है और इतना ही नहीं तुम विनीता से प्यार करते थे तो तुम्हारे पास विवेक को मारने का एक अच्छा कारण भी था।" इसीलिए इन सब शक के चलते मैं तुम्हें इन्वेस्टिगेशन और इंटेरोगेशन के लिए हिरासत में लेते हूँ। शाम को अनिल की मौत हो गई। लीला ने कहा "इसकी मौत पोस्टमार्टम के मुताबिक जैस्मिन की महक से हुई हैं क्योंकि अनिल को जैस्मिन की महक से एलर्जी थी। इसी की वजह से उसके नाक और मुंह में सूजन हो गई और सांस ना देने की वजह से अनिल की मौत हो गई।" यह सुनकर अनिल की मंगेतर रानी ने कहा "हो ना हो इस सबके पीछे लोकेश उसी का ही हाथ है वह अनिल पर तरह-तरह के अपने नए-नए परफ्यूम्स छिटकते थे। अनिल ने उन्हें काफी बार मना किया है लेकिन लोकेश जी अनिल जी को डराने के लिए उनके मना करने के बावजूद भी उन पर वह परफ्यूम लगा देते थे इन्हीं की वजह से एक बार अनिल की तबीयत खराब हो चुकी थी।" तभी अचानक  लीला के फोन पर घंटी बजी और लीला विवेक के भाई समीर की गर्लफ्रेंड मीरा के पास आई और कहा" तुमने ही अनिल की हत्या की है क्योंकि तुम्हारे कमरे से एक पेंटिंग मिली है जिसमें से जैस्मिन की महक आ रही है और तुमने ही अनिल को अपने कमरे में बुलाया था। बताओ क्यो बुलाया था?"  यह सुनकर मीरा ने कहा  "दरअसल अनिल मेरा पहला बॉयफ्रेंड है और यह बात बस समीर  को ना बता दे इसीलिए मैंने उसी कमरे पर बुलाया था और हां मुझे पेंटिंग करने का शौक है लेकिन उसमें से जैस्मीन की महक कैसे आ रही है वह मुझे नहीं पता।" यह सुनकर लीला ने कहा मैं तुम्हें अभी के लिए हिरासत में लेती हूं।" ठीक एक घण्टे बाद सुनील की पत्नी की मौत हो गई। लीला ने कहा "ओह माय गॉड , इसकी मौत  पोस्टमार्टम के मुताबिक  इसके अगुठे पर जहरीली पिन चुभने की वजह से हुई।" तभी समीर ने कहा "विकास जी ने ही रमा को मारा होगा क्योंकि उन्हें सुनील जी पसन्द नही थे वह तो उन्हें मारने की धमकी भी दी थीं।सुनील तो रहा नही तो रमा को ही मार दिया।" तभी लीला को फोन पर घन्टी बजी और लीला उसे देखने गई और उसने स्विमिंग टीचर केली को कहा तुमने ही रमा को मारा हैं तुमारे लॉकर में यह क्लिक वाला पेन मिला है जिसे लिखने के लिये ऊपर वाला स्विच दबाना पड़ता हैं इस के ऊपर वाली बटन में एक छोटी सी पिन हैं जो दबाते ही बाहर आती हैं। इस पर जहर लगा है और एक फॉर्म मिला है जिस में गवाह के तौर पर तुमने रमा के साइन लिए हैं। इसलिये मैं तुम्हे हिरासत में लेती हूँ।" ठीक एक और घण्टे में विकास के मौत की खबर आई। लीला ने कहा "इसकी मौत भी फॉर्क पेट मे घोंप कर हत्या की हैं।" यह सुन लोकेश की पत्नी मिना ने कहा 'जरुर , इस के पीछे आशा जी का हाथ हैं क्योंकि वह विकास को डिवोर्स देना चाहती थी। उन दोनों की हर रोज लड़ाई होती थी।" अचानक लीला के फोन पर घन्टी बजी। उसे देखने वह गई और गुस्से में लीला आई और उसने बार बॉय जैरी को बोला" तुमारे कमरे के ड्रा में यह खून से भरा फॉर्क मिला है इसलिये तुम्हे मैं हिरासत में लेती हूँ।"
जेम्स और रुचि जब आए यो उन्हें पता चला कि एक ही दिन में 5 मौत हो चुकी हैं। तभी जेम्स ने अगले दिन कहा "आज मेरा जन्मदिन हैं इसलिये मैं एक पार्टी देना चाहता हूँ।" सभी मायूस नजर आ रहे थे सभी के चहेरे लटके हुए थे। तभी जेम्स ने एक व्यक्ति को देखा और कहा "जी आप कौन?"
तभी उस व्यक्ति ने कहा "जी मै यहाँ का सिक्योरिटी इंचार्ज मार्क हूँ।"
यह सुन जेम्स  ने उसे अपने साथ खाना खाने के लिए बैठने को कहा।
रात को जेम्स ने चाकू लिया रूचि के पेट में घोंप दिया।
रुचि की एक तेज चीख़ निकल पड़ी। जिसे सुन सभी आ गए। तभी जेम्स ने देखा कि जमीन पर कुछ आवाज आ रही है जेम्स ने जल्द से जमीन को खोदने लगा। तभी उसे उस जमीन पर एक संदूक मिला जिस में काफी सारा धन और कीमती हीरे जेवरात थे।
जिसे देख सिक्योरटी इंचार्ज मार्क गुस्से में आग बबूला हो गया उसने अपनी चाकू लिया और जेम्स पर हमला करने की कोशिश की । लेकिन जेम्स को इस कि भनक लग गई उसने मार्क का हाथ पकड़ लिया और कहा "अरे अरे तो आप हैं इन सब के पीछे।"
तभी मार्क ने कहा "यह जेवरात और हीरे मेरे हैं और यह सब खून तो मैने किये हैं मैंने ही काला जादू कर सेवन मर्डरर को सात आत्माएं की बलि देने का वादा किया है और उसके बदले में उसे वह ढेर सारा धन मांगा है। तुम्हे यह सब एक ही खून पर कैसे मिल गए।"
जेम्स ने कहा "दरअसल यह ड्रामा मैंने इस होटल के इस कमरे मे इसीलिए किया है क्योंकि इसी जगह पर उस साइको मर्डर की मौत हुई थी और उसकी आत्मा यहीं पर है और मैं यह तो समझ रहा था कि कोई इस किसको कहीं और मोड़ने की कोशिश कर रहा है लीला तुम्हें फोन पर यह सब इंफॉर्मेशन इसीलिए दे रहा था ताकि कभी इसी पर शक आए नहीं। रुचि  तुम उठ जाओ।"
लीला ने कहा "मुझे माफ़ कर देना जेम्स।"
यह सुन रुचि ने मुस्कुराते हुए लीला के कंधे पर हाथ रख दिया
जेम्स ने मार्क का कॉलर पकड़कर कहा "जब मुझे वह तेरा संदेश भरा कागज मिला था। तब मैंने गौर दिया कि खूनी जो भी है कलम को 2 इंच ऊपर से पकड़ कर और पेन को दबाते हुए लिखता है उसकी ऊपर एक आकृति बनाई तो पता चला कि वह खूनी तो दाहिने हाथ से लिखता है और पार्टी में जब मैंने तुम्हें अपने साथ खाने को कहा तो मैंने गौर किया कि तुम भी चम्मच को 2 इंच ऊपर से पकड़ कर दाहिने हाथ से खा रहे हो। तभी हमे तुम पर शक हुआ। तभी हमने यह प्लान बनाया। बताओ तुमने यह सब कियु किया?"
यह सब सुनकर मार्क ने कहा "तुमने बहुत गलत किया है दरअसल इस जगह पर 7 मर्डरर आत्मा का साया है और वह खूनी के साथ लुटेरा भी था उसने काफी धन लूटा था। अगर यह सब पूरा हो जाता है तो मुझे ढेर सारा धन मिलेगा और उसकी आत्मा यही  कैद रहेगी देखो वक्त निकल रहा है मुझे एक और खून करना ही होगा अगर यह नहीं हुआ तो उसकी आत्मा मुझे नहीं छोड़ेगी।"
यह सुनकर जेम्स ने कहा "मैं तुम्हें किसी को भी मारने नहीं दूंगा।"
अचानक ही मार्क की एक तेज चीख निकली "अअअअआ।"
उसका शरीर मे आग लग गई। तभी जेम्स ने पानी लिया और मार्क के ऊपर डाल दिया और मार के ऊपर लगी हुई आग अचानक से बुझ गई। आँख बंद कर अपने कोट के जेब से एक छोटी सी डायरी निकाल कर पढ़ने लगा और सभी को बाहर ले जाते हुए जेम्स ने माचिस लिया और उस कमरे को आग लगा दी। उस कमरे में से एक भयानक चीख निकली।
तभी जेम्स ने देखा कि एक काला साया आग की लपटों में भी साफ दिख रहा हैं और अचानक से वह गायब हो गया। कमरे की आग बुझा दी गई।
 तब जेम्स ने कहा " इस होटल पर जो भी आत्मा का  साया था उसका नाता इस कमरे से था। आखिरकार इस कमरे को जलाने से उसके शरीर को वो अंश जो अभी भी इस कमरे में था वह जल गया यानी कि वह यहां से चला गया।"
और मार्क को पुलिस को सौप दिया और जेम्स ने कहा "बाबू को छोड़ दो।"
बाबू ने आते ही जेम्स के पांव पकड़ लिए जेम्स ने उसे खड़ा कर मुस्कुरा दिया।
लीला ने जेम्स को कहा "मुझे माफ़ करना कि मै अपनी मर्जी पर उतर आई और आपकी बात ना मानी।"
जेम्स ने मुस्कुराते हुए कहा "अरे कोई बात नहीं।"
लीला ,जेम्स,रुचि तीनो के चहरे पर मुस्कुराहट आ गई।

Post a comment

0 Comments